एसएसपी ( SSP) कैसे बनें ? ( SSP kaise bane ?

एसएसपी कैसे बने?( SSP kaise bane?  SSP कौन होता है ? SSP बनने के लिए क्या योग्यताएं चाहिए? SSP कैसे बने पूरी प्रक्रिया । SSP का वेतन, SSP का कार्य , SSP और SP में अंतर में एवं ACP तथा SSP में अंतर क्या होता है ? इन सभी उपरोक्त प्रश्नों का उत्तर हम इस पोस्ट में जानने वाले हैं आप में से सभी लोगों ने कभी ना कभी तो एक SSP का नाम सुना होगा या उनके बारे में जानते होंगे और यदि आपको एसएसपी SSP के बारे में कोई ज्ञान नहीं है तो आज के इस पोस्ट में है एसएसपी (SSP) कैसे बने से संबंधित सारे सवालों के उत्तर देंगे तो आप इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें और मुझे उम्मीद है कि इस पोस्ट में आपको SSP बनने से संबंधित पूरी प्रक्रिया समझ में आ जाएगी।


SSP कौन होता है ?

एसएसपी कौन होता है यह जानने से पहले यह जानना जरूरी है की एसएसपी का पूरा नाम सीनियर सुपरिंटेंडेंट ऑफ़ पुलिस होता है। जिले में एक एसएसपी की पोस्ट एसपी से सीनियर लेवल की पोस्ट होती है। एक एसपी जिले का प्रमुख पुलिस ऑफिसर होता है और एसएसपी किसी बड़े जिले का एसपी से ऊपर काम करने वाला सर्वोच्च पुलिस ऑफिसर होता है। जो एसपी को आदेश देता है। जिले में सभी कानूनी कार्रवाई की निगरानी रखता है।  


SSP बनने के लिए योग्यताएं: 

किसी भी राज्य में एक एसएसपी बनने ने लिए निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए–


शैक्षिक योग्यता : 

  1. आवेदक भारत का नागरिक होना चाहिए 
  2. आवेदक का ग्रेजुएशन किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से किसी भी विषय में होना चाहिए।
  3. आवेदक की उम्र 21 से 32 वर्ष की होनी चाहिए।
  4. आवेदक के लिए उम्र में छूट अनुसूचित जातियों के लिए 5 वर्ष , ओबीसी कैटेगरी के लिए 3 वर्ष और सामान्य वर्ग के लिए कोई छूट नहीं होती।


शारीरिक योग्यता : 

  1. आवेदक की हाइट पुरुष के लिए 165 सेंटीमीटर तथा महिला के लिए 150 सेंटीमीटर होता है 
  2. पुरुष आवेदक के लिए चेस्ट की साइज 79–85cm होना चाहिए।
  3. आवेदक का आई विजन 6/6 या 6/9 होता है। 


SSP कैसे बने ? पूरी प्रक्रिया –

एसएसपी का पोस्ट एक आईपीएस ऑफिसर की पोस्ट होती है और एक आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए हर आवेदक को देश की सर्वोच्च परीक्षा UPSC में बैठना होता है। UPSC का एग्जाम तीन प्रमुख सेवाओं IAS , IPS, IFS हेतु कराया जाता है इसके अलावा भी अन्य 24 सेवाओं के लिए भी कराया जाता है। एसएसपी कैसे बने यदि आप एसएसपी बनना चाहते हैं तो आपके पास ऊपर बताई गई सभी योग्यताएं होनी चाहिए उसके बाद जब आप UPSC के लिए अप्लाई करते हैं तो आपको उसमे  IAS , IPS, IFS में से किसी एक को अपना फर्स्ट प्रिफरेंस के चुनना चाहिए। इसके बाद UPSC एग्जाम कराती है। आइए UPSC के एग्जाम के बारे में विस्तार से जानते हैं।


   SSP बनने के लिए UPSC एग्जाम : 

SSP बनने के लिए UPSC का एग्जाम तीन चरण में होता है–


1. प्रारम्भिक परीक्षा

SSP बनने के लिए आवेदकों को यूपीएससी एग्जाम के पहले चरण में प्रारंभिक परीक्षा देना होता है इस परीक्षा को पास करने वाले आवेदक मुख्य परीक्षा में बैठते हैं प्रारंभिक परीक्षा में 2 पेपर होते हैं । पहला पेपर से ही कटऑफ तय किया जाता है। और इसके दूसरे पेपर में केवल पास होना अनिवार्य है। यानी प्रारंभिक परीक्षा में कराए जाने वाले दो पेपरों में से पहले पेपर में पाए गए अंक के आधार पर मुख्य परीक्षा के लिए योग्य समझा जाता है। प्रारंभिक परीक्षा में कराए जाने वाले दो पेपर इस प्रकार है–

General studies I

General studies II

इस प्रकार से यदि आप प्रारंभिक परीक्षा के दोनों पेपरों को पास कर लेते हैं तो आपका प्रवेश मुख्य परीक्षा के लिए सुनिश्चित होता है।


2. मुख्य परीक्षा


प्रारंभिक परीक्षा को पास करने वाले आवेदक मुख्य परीक्षा में प्रवेश करते हैं। मुख्य परीक्षा में आवेदकों को 9 पेपरों देना पड़ता है जिसमें 2 पेपर स्वयं चुने गए विषय से कराए जाते हैं। इस परीक्षा में होने वाले 9 पेपर इस प्रकार हैं–

  • Indian language
  • English
  • Essay
  • General studies-I
  • General studies- II
  • General studies- III
  • General studies- IV
  • Optional subject - I
  • Optional subject - II


उपरोक्त 9 पेपरों में से अंतिम दो पेपर चुने गए विषय से कराए जाते हैं इसके लिए बहुत से विषय दिए गए होते हैं जिसमें से आवेदक को किन्हीं दो विषय को चुनना होता है।

जिसके बाद चुने गए विशेष है प्रश्न पत्र तैयार होता है। आइए आप लोगो के लिए और भी आसान करते है और बताते है कि प्रमुख ऑप्शनल सब्जेक्ट कौन कौन से है। जिसमे से 2 चुनना होता है। 


  • Agriculture
  • Animal husbandry and veterinary science
  • Batony
  • Zoology
  • Geology
  • Chemistry
  • Maths
  • Physics
  • Geography
  • History
  • Phylosophy
  • Public administration
  • Polytical science
  • Law
  • Statistics
  • Hindi
  • English
  • Civil engineering
  • Mechanical engineering
  • Electrical engineering. Etc 

इसके अलावा यदि आप इंजिनियरिंग के क्षेत्र में ग्रेजुएशन किया हैं तो भी आप अपने द्वारा 2 विषय का चयन करके मुख्य परीक्षा दे सकते है। और जब आप इस परीक्षा को पास करते है तो अगले चरण इन्टरव्यू के लिए बुलाया जाता है। 


3. इन्टरव्यू –

SSP बनने के लिए जब आवेदक प्रारंभिक तथा मुख्य परीक्षा पास कर लेता है तो उसे अगले चरण यानी इंटरव्यू के लिए आमंत्रित किया जाता है । यह इंटरव्यू दोनों परीक्षाएं पास करने के कुछ हफ्ते बाद होता है इसकी सूचना आपको प्राप्त होती है। इस इंटरव्यू में आपसे तार्किक प्रश्न , आईक्यू लेवल , प्रेजेंट ऑफ माइंड से संबंधित प्रश्न पूछे जाते है और यदि आप सभी सवालों का सही उत्तर देने में कामयाब होते है तो आपका इन्टरव्यू पास हो जाता है।  


SSP का वेतन : 

SSP का वेतन कितना मिलता है। यह जानने के मन हमे एसएसपी बनने से पहले करता है । तो आइए जानते है कि एक SSP की सैलरी कितनी होती है। एक एसएसपी की सैलेरी पे लेवल 13 के अनुसार 118,500–214,100 रुपए होता है। इसके अलावा और भी सुविधाएं सरकार देती है। जिससे SSP के वेतन में बढ़ोतरी हो जाती है। 


SSP का कार्य :

जैसे कि हम जानते है कि SSP एक बड़े जिले का सर्वोच्च पुलिस ऑफिसर होता है। इसके अंतर्गत एसपी , सब इंस्पेक्टर, कांस्टेबल , एसओ, आदि पुलिस ऑफिसर आते है। चलिए जानते है कि SSP के कौन कौन से कार्य होते है।  

  • जिले में SSP का प्रमुख कार्य कानून व्यवस्था को बनाए रखना है।
  • जिले में होने वाले अपराधो की जांच का आदेश SSP करता है।
  • कानून व्यवस्था को भंग करने पर SSP अपने नीचे की पुलिस कर्मचारी पर करवाई करवाता है।
  • एसएसपी जिले के सुप्रिडेंट ऑफ पुलिस यानी एसपी को आदेश देता है और एसपी अपने से नीचे के पुलिस अधिकारी जैसे इंस्पेक्टर कांस्टेबल हेड कांस्टेबल इत्यादि को आदेश देता है। 
  • जिले के कानून व्यवस्था बनाए रखने में डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट की सहायता एक SSP बखूबी करता है। 



SSP और SP में अंतर :

वैसे देखा जाए तो SSP और SP में कुछ खास अंतर नहीं है। एक एसएसपी के अंर्तगत एसपी कार्य करता है। अर्थात एक एसपी के पोस्ट से बडा एसएसपी का पोस्ट होता है। एक एसपी किसी छोटे जिले का हेड पुलिस ऑफिसर होता है। जबकि जब जिला बड़ा हो तो वहा के कानूनी मामलों को देखने तथा अच्छे ढंग से संचालित करने ने लिए एसपी के अलावा मुख्य पुलिस ऑफिसर के रूप में SSP को चुना जाता है। और वही जिले का प्रमुख पुलिस ऑफिसर होता है।  


ACP तथा SSP में अंतर :

अधिकतर लोग इस विषय ने संदेह में रहते है कि ACP और SSP में क्या अंतर होता है। एक एसीपी का पूरा नाम assistant commissioner of police होता है। एक एसीपी की पोस्ट किसी बड़े शहर यानी मेट्रो सिटी में होता है। जैसे मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, हैदराबाद आदि। एसीपी की पोस्टिंग किसी जिले में न होकर किसी मेट्रो शहर में होता है । 


और एक SSP की पोस्टिंग जिले में होती है। वैसे दोनो में तुलना किया जाए तो SSP की पोस्ट एसीपी के पोस्ट से बड़ी होती है। एक ACP को प्रमोट करके DCP और उसके बाद कमिश्नर बनाया जाता है। जबकि SSP का देखा जाए तो एक ASP जब प्रमोट होते है तो डीएसपी और उसके बाद एसपी और फिर एसपी प्रमोट होकर एसएसपी बनते है तो इस तरह से एक SSP का पोस्ट वास्तव में एसीपी से बड़ा है।  


आज के इस पोस्ट में बस इतना ही उम्मीद करता हूं कि आप लोगों को आज का हमारा यह पोस्ट " एसएसपी कैसे बने ( SSP kaise bane? )" पसंद आया होगा यदि आप हमारे इस पोस्ट से संतुष्ट नहीं है तो अपने और संतुष्टि का कारण हमें कमेंट में लिखकर बताएं और यदि कोई जानकारी अधूरी रह गई हो तो उसे भी आप पूछ सकते हैं धन्यवाद 


जय हिंद वंदे मातरम

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ