फॉरेस्ट ऑफिसर कैसे बनें (Forest officer kaise bane? )

 यदि आप उनमें से हैं जिनका लगाव और रुचि प्रकृति से है और पर्यावरण को स्वच्छ और निर्मल बनाने में अहम योगदान देते हैं। भारत में लगभग 21.67% पूरे भूभाग का जंगल है। जिसकी संरक्षण के लिए फॉरेस्ट ऑफिसर की नियुक्ति की जाती है। यदि आप फॉरेस्ट ऑफिसर बनके वन क्षेत्र का संरक्षण करना चाहते हैं। तो यह पोस्ट आपके लिए ही है इस पोस्ट में हम जानेंगे फॉरेस्ट ऑफिसर क्या होते हैं ? फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए क्या योग्यताएं होनी चाहिए ? फॉरेस्ट ऑफिसर कैसे बने? ( Forest officer kaise bane ?) फॉरेस्ट ऑफिसर का वेतन क्या होता है? फॉरेस्ट ऑफिसर के कार्य क्या होते हैं? फॉरेस्ट विभाग में फॉरेस्ट ऑफिसर के कौन कौन से पद होते हैं? फॉरेस्ट ऑफिसर को मिलने वाली सुविधाएं क्या है?


इन सभी प्रश्नों का उत्तर आपको इसी पोस्ट के अंदर मिलेगा तो आप इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें मुझे विश्वास है कि आप को पढ़कर फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के संबंध में सारे भ्रम दूर हो जाएंगे। 




Forest officer क्या है : 


यह वह ऑफिसर होते हैं जो भारत में व्याप्त जंगलों का संरक्षण करते हैं। उनकी देखभाल करते हैं तथा उस जंगल में रहने वाले वन्यजीवों की सुरक्षा की जिम्मेदारी को संभालते हैं। फॉरेस्ट ऑफिसर कहे जाते है। Forest से जुड़ी हुई सभी मामलों जैसे वृक्ष कटाई वन्यजीव तथा वन्य उन्मूलन मामलों को फारेस्ट ऑफिसर के द्वारा देखा जाता है। 


    फारेस्ट ऑफिसर का पद एक आईएएस ( IAS) ऑफिसर के बराबर होता है । फारेस्ट ऑफिसर को IFS officer के नाम से जानते है। जिसका पूरा नाम indian forest officer होता है। भारत से सबसे प्रमुख IAS, IPS, IFS होता है। 



फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए योग्यताएं : 

एक फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए आवेदक के पास निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए–


  • आवेदक भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से स्नातक की डिग्री प्राप्त किया हो।
  • आवेदक स्नातक में 55% अंकों से पास हुआ हो । 
  • आवेदक की उम्र 21 से 32 वर्ष के बीच में होना चाहिए



Forest officer कैसे बनें :


फॉरेस्ट ऑफिसर कैसे बनें। ( Forest officer kaise bane?)  फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए आवेदक को सबसे पहले देश की सर्वोच्च परीक्षा UPSC - IFS के लिए आवेदन करना होता है । किसी आवेदक के पास उपरोक्त दी गई योग्यताएं हैं वह इस एग्जाम के लिए आवेदन कर सकते हैं भारत सरकार हर वर्ष UPSC का एग्जाम फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए कंडक्ट कराती है। 


       जैसा कि हम जानते हैं कि फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए यूपीएससी का एग्जाम देना होता है। यह एग्जाम 3 चरणों में होता है । आइए इनके चरणों के बारे में एक-एक करके जानें। 



पहला चरण – प्रारंभिक परीक्षा 


फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के पहले चरण में आवेदक को प्रारंभिक परीक्षा से गुजरना होता है इस परीक्षा में कुल 2 पेपर होते हैं। पहले पेपर के आधार पर कटऑफ तय किया जाता है। और दूसरे पेपर में केवल 33 % अंक प्राप्त करने होते है । प्रारंभिक परीक्षा के दो पेपर इस प्रकार है–


1. General studies paper - I

2. General studies paper –II


उपरोक्त दोनों पेपर 200–200 अंकों का होता है। प्रत्येक पेपर के लिए 2 घंटे समय होता है । यह दोनों पेपर MCQ type का होता है । इसको प्रारंभिक परीक्षा को पास करने वाले आवेदक अगले चरण में प्रवेश करते है।  



दूसरा चरण – मुख्य परीक्षा 


जो आवेदक प्रारंभिक परीक्षा को पास कर लेते हैं वह मुख्य परीक्षा में सम्मिलित होते हैं । मुख्य परीक्षा में आवेदक को कुल 6 पेपर देने होते हैं जिनका विवरण इस प्रकार है।  


1. General English

2. General knowledge

   

मुख्य परीक्षा में शुरुआत के दो पेपर जनरल इंग्लिश तथा जनरल नॉलेज का होता है । यह दोनों पेपर 300–300 अंकों का होता है । 


उपरोक्त दो पेपर देने के बाद आवेदक के लिए दो ऑप्शनल विषय से पेपर कराए जाते हैं जिसमें अनेक विषयों में आपको कोई तो भी 2 विषय चुनना होता है। और प्रत्येक चुने हुए विषय से 2 –2 पेपर कराए जाते है। इस तरह से कुल 6 पेपर कराए जाते हैं। नीचे आपको सभी ऑप्शनल सब्जेक्ट दिए जा रहे हैं जिसमें से किन्ही दो का चयन करना होता है–


  1. Agriculture
  2. Agricultural engineering
  3. Animal husbandry and veterinary science botany
  4. Zoology
  5. Chemistry 
  6. Chemical engineering 
  7. Civil engineering 
  8. Forestry 
  9. Mathematics 
  10. Mechanical engineering 
  11. Physics 
  12. Statistics 
  13. Geology 


उपरोक्त दिए गए सभी विषयों में से आपको कोई दो विषय चुनना होता है जिसके बाद आपको उस विषय पर एग्जाम देना होता है 


Note- लेकिन उपरोक्त दिए गए सभी विषयों में से आप निम्न प्रकार के विषयों में दो विषय को एक साथ नहीं जा सकते वह निम्न है-


  1. Agriculture , agricultural engineering
  2. Agriculture , animal husbandry and veterinary science
  3. Agriculture and forestry 
  4. chemical engineering and chemistry 
  5. maths and statistics 


उपरोक्त दिए गए विषयों को एक साथ नहीं ले सकते। यह बात आप को ध्यान में रखनी होगी । 


तीसरा चरण – साक्षात्कार 


जब कोई आवेदन प्रारंभिक परीक्षा तथा मुख्य परीक्षा को पास कर लेता है तो उसको अगले चरण में भेजा जाता है अगले चरण में आवेदक से इंटरव्यू दिया जाता है जिसे हिंदी में साक्षात्कार कहते हैं। इस इंटरव्यू 300 अंकों का होता है। इसमें आवेदक से प्रजेंट ऑफ माइंड तथा पर्सनालिटी डेवलपमेंट से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं यदि आप उन प्रश्नों का सही सही जवाब इंटरव्यू में देते हैं तो आप इंटरव्यू को आसानी से पास कर सकते हैं। बहुत से विद्यार्थी प्रारंभिक तथा मुख्य परीक्षा पास करने के बाद इंटरव्यू में फेल हो जाते हैं। इसलिए जरूरी है कि हम कड़ी से कड़ी मेहनत करें और इंटरव्यू की तैयारी करें। इंटरव्यू को पास करने के बाद आप फॉरेस्ट ऑफिसर बन जाते हैं। जिसके बाद आपको ट्रेनिंग के लिए बनाया था और वन्य संरक्षण के लिए सभी प्रकार के नियमों को समझाया जाता है तब जाकर उनकी पोस्टिंग वनविभाग में लगती है। 


फारेस्ट ऑफिसर की सैलरी :


एक फॉरेस्ट ऑफिसर के प्रमुख पद होते हैं जिनकी सैलरी अभी अलग-अलग होती है जब आप फॉरेस्ट ऑफिसर बनते हैं तो एक फॉरेस्ट ऑफिसर की शुरुआती सैलरी 56,100 –177,500₹ होती है। फॉरेस्ट ऑफिसर के रूप में पहला पाठ असिस्टेंट इंस्पेक्टर जनरल ऑफ फॉरेस्ट ( Assistant inspector general of forests) का होता है। 


फॉरेस्ट विभाग में प्रमुख आफिसर के पद : 


आइए जानते हैं कि जब आप IFS का एग्जाम पास कर लेते हैं और फॉरेस्ट ऑफिसर बनते हैं तो वह कौन कौन से पोस्ट हैं जिस पर आप की पोस्टिंग होती है या प्रमोशन के बाद आप वहां तक पहुंचते हैं। यह प्रमुख पद निम्न प्रकार हैं–


  • Assistant inspector general of forests
  • Additional inspector general of forests
  • Deputy inspector general of forests
  • Inspector general of forests 
  • Additional director general 
  • Director general


फारेस्ट ऑफिसर को मिलने वाली सुविधाएं : 


जब आप एक फॉरेस्ट ऑफिसर बन जाता है तो सरकार आपके लिए बहुत सी सुविधाएं देती हैं जो निम्न प्रकार हैं–


  • रहने के लिए आवास
  • हॉस्पिटल खर्च
  • जल और विद्युत बिल 
  • मोबाइल कॉल खर्च
  • रिटायरमेंट के बाद पेंशन दिया जाता है।
  • ऑफिस जाने के लिए गाड़ी। आदि 


उपरोक्त सभी प्रकार के खर्चे सरकार द्वारा एक फॉरेस्ट ऑफिसर के लिए उठाई जाती है यानी उपरोक्त बताई गई सभी खर्चे मुक्त होती है। 


आज के इस पोस्ट "फॉरेस्ट ऑफिसर कैसे बनें (Forest officer kaise bane? )" में बस इतना ही उम्मीद करता हूं कि आप लोगों को हमारा यह पोस्ट बेहद पसंद आया होगा यदि अभी भी आपके मन में कोई प्रश्न हो इस पोस्ट के बारे में तो हमें कमेंट में लिखकर जरूर बताएं । हम आपके कमेंट का उत्तर अवश्य देंगे।


धन्यवाद 

जय हिंद वंदे मातरम



























एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ