विदेश मे पढ़ाई कैसे करे ? ( How to study abroad)

             अक्सर देखा जाता हैं कि हमारे देश मे लाखों बच्चे पढाई के दौरान विभिन्न प्रकार के सपने देखते हैं। जिसमे से अधिकतर बच्चे का सपना विदेश मे जाकर पढाई करने का होता हैं । तो यह पोस्ट "विदेश जाकर पढाई कैसे करे " ऐसे विधार्थियो के लिए ही हैं । जो अपनी पढाई विदेश (foregn country) मे  करना चाहते है ।

 इस पोस्ट मे हम बतायेंगे विदेश मे पढ़ाई कैसे करे?(how to study abroad in Hindi )  विदेश मे पढाई के फायदे क्या है? क्या योगताए होने चाहिए विदेश मे पढ़ाई (abroad study) के लिये? विदेश मे पढ़ाई मे कितना खर्च आता है? 


             विषय सूची

  • विदेश मे पढाई क्यों करे और फायदे। 
  • विदेश मे पढाई क्यो नही करे। 
  • विदेश मे पढ़ने के लिए योगताएँ। 
  • विदेश मे पढाई करने के प्रक्रिया। 
  • विदेश मे पढ़ाई करने मे कुल खर्च। 
  • छात्रवृत्ति देने वाले टॉप कॉलेज 
  • विदेश मे पढ़ने के बाद सैलरी 



विदेश मे पढाई क्यों करे और फायदे

हम लोग सबसे पहले जानते हैं कि कोई भी छात्र विदेश क्यो पढ़ना चाहेगा। और क्या-क्या सुविधाएं मिलती हैं। विदेश मे पढ़ने के निम्न कारण हैं। 

1. विदेश मे exposial अच्छा हैं। 

2. विदेश मे पढाई करने वालों की मांग बहुत ज्यादा हैं। 

3. अब बात करें सैलरी कि तो बहुत ज्यादा होती है। अलग अलग देश मे बहुत अधिक सैलरी होता हैं। 

4. विदेश मे पढाई करने से अलग अलग कल्चर का अनुभव मिलता हैं। 


 क्यो नही करे विदेश मे पढाई ? 

जब बात आती हैं विदेश मे पढाई करने की तो हमारे मन मे अलग भावना आती है। इसके साथ साथ क्या कारण हैं कि अभिभावक अपने बच्चो को विदेश पढाई नही कराते हैं। आईये जानते हैं -

1. विदेश मे अधिकतर college मे फीस बहुत अधिक होता हैं। 

2. वहा पर रहने का खर्च बहुत आता हैं। जितना फीस नही लगता हैं। उससे ज्यादा रहने का खर्च (living cost) आता है। 

3. वहा का रहन-सहन भारत की सभ्यता से भिन्न होता हैं। जिसमे बच्चा घुल-मिल नही पाता हैं। 


विदेश मे पढ़ने के लिए योगताएँ

जब कोई बच्चा अपने घर से बाहर निकल किसी अलग देश अर्थात विदेश मे पढाई करना चाहता हैं। तो उसके पास निम्न योगताएँ होना चाहिए। 

1. यदि छात्र यूजी(UG) कोर्स के लिए पढ़ाई करना चाहता है। तो वह 12 वीं पास होना पास होना वीं पास होना पास होना अनिवार्य है। 

2. यदि छात्र पीजी कोर्स के लिए पढ़ाई करना चाहता है। तो उसका ग्रेजुएशन पूरा होना चाहिए। 

3. इन सभी योग्यताओं के साथ-साथ आवेदक का इंग्लिश आवेदक का इंग्लिश विषय में अच्छी पकड़ होनी चाहिए

4. इन सभी योग्यता के बाद भी विदेश में पढ़ाई के लिए छात्र आंतरिक रूप से दृढ़ संकल्पित एवं तैयार होना चाहिए। 


विदेश मे पढाई करने के प्रक्रिया  

भारत में रहने वाला कोई भी छात्र जो अपने देश से निकलकर विदेश में पढ़ाई करना चाहता हैं। तो उसे विदेश के कॉलेज में एडमिशन के लिए तरह-तरह के एग्जाम देने पड़ते हैं यह एग्जाम अलग-अलग देशों में अलग-अलग में अलग-अलग अलग-अलग होता है आज के इस पोस्ट " विदेश मे पढाई कैसे करे " में हम पढ़ाई के क्षेत्र में अग्रणी देशों के श्रेष्ठ कॉलेज में एडमिशन के लिए कौन कौन से एग्जाम देने पड़ते हैं इसके बारे में विस्तार से अध्ययन करेंगे। आईये जानते हैं-

1. अमेरिका मे पढ़ाई:

पूरे विश्व भर मे सबसे शक्तिशाली देश और पढाई मे अग्रणी देश अमेरिका मे पढाई करने के लिए भारतीय छात्र को SAT का प्रवेश परिक्षा देना पड़ता है। इसके साथ साथ छात्र का अग्रेजी विषय मे पकड़ लिए TOEFL/IELTS मे से कोई एक एग्जाम पास करना पड़ता हैं। तब जाकर आपका प्रवेश अमेरिका के टॉप कॉलेज मे होता हैं। 


2. कनाडा(Canada)मे पढाई

पढाई के मामले मे पूरे विश्व मे प्रशिद्ध देश कनाडा जिसमे आज भी लाखों बच्चे अपना पढाई करने जाते हैं। और जिसके द्वारा अपने सपनो को साकार करते हैं। तो ऐसे मे इस देश मे प्रवेश के लिए SAT entrance exam के साथ साथ TOEFL/IELTS, मैनेजमेंट के पढाई के लिए GMAT तथा GRE जैसे प्रवेश परीक्षा को देना पड़ता हैं। तब जाकर आपका एडमिशन कनाडा जैसे देश मे होता हैं। 


3. यूके (UK) मे पढाई 

अब बात करे UK की तो यह देश भी पढाई के मामले मे अछूता नही रहा है। इस देश का नाम भी पढाई के क्षेत्र मे गर्व के साथ लिया जाता हैं। ऐसे मे इस देश मे एडमिशन के लिए भी SAT का पेपर देना पड़ता है। और यदि छात्र बायो मेडिकल मे अपना career विदेश मे बनाना चाहते हैं। उनको BMAT entrance exam तथा मेडिकल के क्षेत्र मे मास्टर डिग्री लेने वाले छात्र के लिए GAMSAT का एग्जाम पास करना पड़ता हैं। 

4. सिंगापुर मे पढाई 

वैसे तो सिंगापुर घूमने के लिए जानी जाती हैं। लेकिन पढाई के मामले मे यह भी बाकी देश से पीछे नही हैं। यह एक महगी लिविंग कॉस्ट ( living cast) वाला जगह माना जाता हैं। यहा रहने वाले छात्र का रहने का खर्च अधिक आता हैं। तो ऐसे मे इस देश मे पढाई के लिए SAT, TOEFL, IELTS व GMAT जैसे एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता हैं। 


5. ऑस्ट्रेलिया(australia) मे पढाई 

वैसे तो यह देश क्रिकेट खेल जगत मे सबसे सफल माना जाता है। जिसने क्रिकेट मे ऐसे ऐसे रिकॉर्ड अपने नाम किये हैं जो शायद ही कोई देश इस रिकार्ड को तोड़ पाए। इस देश मे 5 बार विश्व कप का खिताब अपने नाम किया हैं। 

इसके बाद भी इस देश का नाम पढाई के क्षेत्र मे गर्व के साथ लिया जाता हैं। इस देश मे प्रवेश के लिए SAT, LSAT तथा MSAT जैसे प्रवेश परीक्षा को पास करने पड़ते हैं। 


विदेश मे पढ़ाई करने मे कुल खर्च

इतना कुछ जाने के बाद हमारा मन एक ही बात पर आकर रुक जाता हैं कि आखिर मे विदेश मे पढाई करने के कुल कितना खर्च आता हैं । विदेश मे पढाई करने के लिए फीस दो तरह के लगते हैं। पहला आपके कॉलेज फीस और दूसरा आपका रहने व खाने का खर्च। बात करे कॉलेज का फीस कि तो यह अलग अलग कॉलेज मे अलग अलग होता हैं। इसके साथ-साथ यह कोर्स पर भी निर्भर करता है। लेकिन कुछ ऐसे देश भी हैं। जहाँ छात्र के लिए  स्कारशिप की सुविधा होता हैं। 

अब बात करते हैं कि रहने और खाने का खर्चा कितना आता हैं। यह भी अलग अलग देश मे अलग होता हैं। विदेश मे पढाई करने के लिए रहने और खाने का खर्च लगभग 1 प्रति माह लाख तक आता हैं। जो कि भारत की तुलना मे बहुत ज्यादा हैं । लेकिन इससे आपको घबराने की जरूरत नही हैं । बहुत ऐसे देश हैं जहा स्कॉलर्शिप के अलावा हॉस्टल की भी सुविधा होता हैं। 

 

स्कॉलर्शिप देने वाले टॉप कॉलेज 

भारत मे रहने वाले छात्र जिसकी आर्थिक स्थिति पूर्ण रूप से ठीक नही हैं। उनके लिए बहुत ऐसे कॉलेज हैं। जो स्कॉलर्शिप देते हैं। स्कॉलर्शिप लेने के लिए भी कई योगताएँ भी होने चाहिए जिसकी जानकारी आपको उस कॉलेज के ऑफिशियल वेबसाइट पर मिलती हैं। आईये जानते हैं USA (america) के कुछ कॉलेज जो स्कॉलर्शिप देते हैं। 

1. Harvard University

2. New York university

3. Princeton University

4. MIT university 

5. Yale University

6. Washington University

7. Amherst university

8. University of chicago

9. Columbia University

10. Willium university


विदेश मे पढ़ने के बाद सैलरी 

भारतीय छात्र जब भी विदेश मे पढाई करने के बारे मे सोचते हैं। तो उनके मन मे यह सवाल जरूर आता हैं । और वे बहुत लोगो से पूछते हैं कि विदेश मे पढाई करने के बाद सैलरी कितनी मिलता हैं। बात करे सैलरी की तो सैलरी लाखों मे मिलती हैं । बहुत से छात्र जो विदेश से पढाई कर चुके हैं वे बताते हैं। कि उनकी सैलरी 10 लाख प्रति महिना हैं। यह सैलरी विदेशो मे इतना मिलता हैं । भारत मे इतनी सैलरी शायद ही किसी को मिलती हैं। 


आज यह पोस्ट आपको कैसे लगा आप हम कॉमेंट बॉक्स मे जरूर बताये। और यदि आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो जरूर बताये। हम आपकी सहायता करके खुशी होगी। 

धन्यबाद

जय हिंद वंदे मातरम्





एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ

दोस्तों आपको यह पोस्ट कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं